Powered By Blogger

Thursday, 28 July 2022

विसर्जन



                   ”गणगौर विसर्जन इसी बावड़ी में करती थीं गाँव की छोरियाँ।”

काई लगी मुंडेर पर हाथ फेरती शारदा बुआ मुंडेर से अपनी जान-पहचान बढ़ाने लगीं ।माँ के हाथों सिले घाघरे का ज़िक्र करती बावड़ी से कह बैठी -

”न जाने कितनी छोरियों के स्वप्न डूबे हैं इसमें! पानी नहीं होता तो भी इसी में पटककर जाती।”

आँखें झुका पैरों में पहने चाँदी के मोटे कड़ों को हाथ से धीरे-धीरे घुमाती साठ से सोलह के पड़ाव में पहुँची बुआ उस समय की चुप्पी में शब्द न भरने की पीड़ा को आज संस्कार नहीं कहे।

"जल्दी ही जीना भूल जाती हैं औरतें कब याद रहता है उन्हें कुछ ?”

बालों की लटों के रूप में बुआ के चेहरे पर आई मायूसी को सुदर्शना हाथ से कान के पीछे करते हुए कहती है।

” किसे डुबोती छोरियाँ ?”

"उस टेम सपने कहाँ देखने देते थे घरवाले, चूल्हा- चौकी खेत-खलिहान ज़मींदारों की बेटियों की दौड़ यहीं तक थीं?”

जीने की ललक, कोंपल-से फूटते स्वप्न; उम्र के अंतिम पड़ाव पर जीवन में रंग भरतीं सांसें ज्यों चेहरे की झूर्रियों से कह रही हों तुम इतनी जल्दी क्यों आईं ?

न चाहते हुए सुदर्शना से बुआ के पैर पर पैर रखा गया और कह बैठी-

"  छोरियाँ तो देखती थीं न स्वप्न।”

"न री! बावड़ी सूखी तो तालाब, नहीं तो कुएँ और हौज़ तो घर-घर में होते थे उनमें डुबो देती।”

”स्वप्न या गणगौर ?”

सुदर्शना ने फिर यही प्रश्न दोहराया।

बड़प्पन का मुकुट ज़मीन पर पटक, मुँह फेरते हुए धीरे से कहती है।

"दोनों।”


@अनीता सैनी 'दीप्ति'

Sunday, 10 July 2022

विश्वास के चार फूल



                 ”पिता का हाथ छूटते ही भाई ने कलाई छोड़ दी और पति का साथ छूटने पर बेटे ने…।”

 बालों को सहलाते हुए सावित्री बुआ की उँगलियाँ सर पर कथा लिखने लगीं। अर्द्ध-विराम तो कहीं पूर्ण-विराम और कहीं प्प्रश्न-चिह्न पर ठहर जातीं। विश्वास सेतु  टूटने पर शब्द सांसों के भँवर में डूबते परंतु उनमें संवेदना हिलकोरे मारती दिखी।

बाल और न उलझें इस पर राधिका ने एक नज़र सावित्री बुआ पर डालते हुए कहा-

”बाल उलझते हैं बुआ!”

"करती क्या हो?दिनभर बाल सूखे, हाथ-पैर सूखे; कब सीखोगी स्वयं का ख़याल रखना?"

झुँझलाहट ने शब्दों के सारे प्रवाह तोड़ दिए, अब भाव और शब्द पहेलियाँ गढ़ने लगे।

” समर्पण दोष नहीं, आपका स्वभाव ही ममतामयी है।”

राधिका ने पलटकर बुआ के घुटनों पर ठुड्डी टिकाते हुए कहा।

"और उनका क्या था ?  उनका हृदय करुणामय  नहीं…?”

माथे से टपकती पसीने की बूंदो में समाहित कई प्रश्न उत्तर की तलाश में भटकने लगे,यह कथा नहीं उपन्यास के बिछड़े किरदारों की पीड़ा थी जो  उँगलियों के सहारे सर में डग भर रही थी।


@अनीता सैनी 'दीप्ति'

Sunday, 3 July 2022

वॉलेट


         " मुझे लगता है! तुम अपरिचित हो? परिवर्तन का चक्का चाक नहीं है कि चाहे जब घुमा दो!” कहते हुए- रुग्ण मनोवृत्ति अंगारों पर लेट जाती है।

  मॉल हो या छोटी-बड़ी दुकानें दरवाज़े के बाहर भेद-भाव भरी चप्पलें व्यवस्थित करने का ज़िम्मा इसी मनोवृति का होता है। एक-एक चप्पल का गहराई से अवलोकन करती फिर दिन व दिनांक का टोकन नाम सहित फला-फला व्यक्ति विशेष के हाथों में थमा देती है।

"ठीक ! तुम कुछ दिनों बाद आना।” कहते हुए, रुग्ण मनोवृति वहाँ से चली जाती है।

 विभा को मिले टोकन पर दिन व दिनांक निर्धारित नहीं है उसने अक्ल के घोड़े दौड़ाए परंतु वह समय से पिछड़ चुकी है।

विभा के साथ उम्मीद में हाथ बाँधे खड़ी चार आँखें, बार-बार एक ही वाक्य दोहरातीं है।

”एक बार और बात करके देखो, बस आख़िरी बार; फिर घर चलते हैं।”

वे आँखें हृदय से फिसलते सपनों को सँभालती हैं फिर अगले ही पल तितर-बितर बिखरी लालसाओं को समेटने में व्यस्तता दिखाने लगती हैं।

अंततः घूरने लगती हैं विभा के हाथों में जकड़े सिफ़ारिश के छोटे से वॉलेट को जिसका उपयोग उनके लिए निषेध है।


@अनीता सैनी 'दीप्ति'

Wednesday, 1 June 2022

दंड



                                            बर्तनों की हल्की आवाज़ और एक स्वर कौंधता है।

” निर्भाग है तू !  यह देख,  तेरा श्राद्ध निकाल दिया आज।”

आक्रोशित स्वर में क्रोध थाली से एक निवाला निकालता है और ग़ुस्साए तेवर लिए थाली से उठ जाता है।

”मर गई तू हमारे लिए आज से …ये ले…। "

और मुँह पर कफ़न दे मारा ईर्ष्या ने।

स्त्री समझ न पाई मनोभावों को, वह सकपका जाती है। "हुआ क्या ? "

 समाज की पीड़ित हवा के साथ, पीड़ा से लहूँ लहूलुहान कफ़न में लिपटी स्त्री जब दहलीज़ के बाहर पैर रखती है तभी उलाहना से सामना होता है।

” पुरुषों के समाज में नारी हो, तूने नारीत्व छोड़ पुरुषत्व धारण किया ? उसी का दंड है यह ! "

उल्लाहना खिलखिलाते हुए सामने से गुज़र जाता है।


@अनीता सैनी 'दीप्ति'

Wednesday, 18 May 2022

पत्थरों की पीड़ा



"तोगड़े ! रिश्तों से उबकाई क्यों आती है? ”

पलकों पर पड़े बोझ को वितान तोगड़े से बाँटना चाहता है।

"श्रीमान! सभी अपनी-अपनी इच्छाओं की फिरकी फेंकते हैं जब वे पूरी नहीं होतीं तब आती है उबकाई।"

तोगड़े हाज़िर-जवाबी से उत्तर देता है।

"पिछले पंद्रह महिनों से पहाड़ियों के बीचोंबीच यों सुनसान टीसीपी पर बैठना ज़िम्मेदारी भरा कार्य नहीं है क्या ?"

वितान कुर्सी पर एक लोथड़े के समान पड़ा है। जिसकी आँखें तोगड़े को घूर रही हैं,घूरते हुए कह रहीं हैं- ”बता तोगड़े, हम क्यों हैं?धरती पर,आख़िर हमारा अस्तित्व क्या है? क्यों नहीं समझते  दुनिया वाले कि छ महीने में एक बार समाज में पैर रखने पर हमें कैसा लगता है?”

"क्यों नहीं? है श्रीमान! है, ज़िम्मेदारी से लबालब भरा है दिन भर एक भी गाड़ी यहाँ से नहीं गुज़रती फिर भी देखो! हम राइफल लिए खड़े हैं।"

कहते हुए- तोगड़े राइफल के लेंस से पहाड़ियों को निहारते हुए उनमें खो जाता है।

"तोगड़े!"

कहते हुए वितान चुप्पी साध लेता है।

" हुकुम श्रीमान।”

वह  राइफल के लेंस में देखता ही जाता है।

"तुम्हारी पत्नी,दोस्त और घरवाले शिकायत नहीं करते तुम से तुम्हारी ज़िम्मेदारियों को लेकर।"

वितान उलझनों को एक-एक कर सुलझना चाहता है। ज़िंदगी से पूछना चाहता है कि आख़िर किया क्या है मैंने?

"नहीं साहेब! पत्नी को टेम ही कहाँ मिलता है? खेत-खलिहान बच्चे, चार-चार गाय बँधी हैं घर पर,  छुट्टी के वक़्त उसे याद दिलाना पड़ता है कि मैं भी घर पर आया हुआ हूँ। पगली भूल जाती है।"

तोगड़े का अट्टहास उसे गाँव ले जाता है यादों के हल्के झोंकों की फटकार से वह उठकर खड़ा हो जाता है और इधर-उधर निगाह दौड़ाने लगता है।

"साहेब! समाज में सभी का पेटा भरना पड़ता है। नहीं तो कौन याद रखता है हम जैसे मुसाफ़िरों को, दोस्तों को एक-एक रम की बॉटल चाहिए। घरवालों को पैसे और पत्नी को कोसने के लिए नित नए शब्द, बच्चों के हिस्से कुछ बचता ही कहाँ है? शिकायतों के अंकुर फूट-फूटकर स्वतः ही झड़ जाते हैं।"

वितान की मायूस आँखों को हँसाने के प्रयास के साथ तोगड़े दाँत निपोरते हुए टीसीपी के गोखे से झाँकता हुआ पानी की बॉटल उठाता है।तपते पहाड़ो से गुज़रते शीतल झोंके अपनों की स्मृतियों को और गहरे से उकेरने में मग्न हो जाते हैं।


@अनीता सैनी 'दीप्ति'

Monday, 2 May 2022

मौन गौरैया



              कॉरिडोर में कबूतर का धरने पर बैठना। जाने पहचाने स्वर में गुटर-गूँ गुटर-गूँ करते हुए कहना । 

"हाँ, वही हूँ मैं।" 

राधिका जैसे कह रही हो।

 ” हाँ,गमले के पीछे की एक गज़ ज़मीन तुम्हारे ही नाम तो लिख रखी है। "

  हिलकोरे मारती स्मृतियाँ; राधिका समय से साथ बहती ही चली गई।

 "हाँ, वही तो है यह कबूतर…नहीं! नहीं!वह नहीं है, वह तो कुछ मोटा था।” अब कबूतर की पहचान करने को आकुल हो गया मन ?

 कबूतर अपने साथ ले आया यादों की पोटली।  राधिका उस गठरी में ढूँढ़ने लगी थी कोकिला को, उसकी माँ उसे कोकि कह पुकारती।

 राधिका जैसे ही कॉरिडोर में रखी कुर्सी खिसकाती उसके एक-दो मिनट बाद ही कोकि छत के कॉर्नर पर आकर खड़ी हो जाती । कोकि वहाँ रहने नहीं आई थी तब उस दीवार पर यही कबूतर बैठा करता था।

 भावों ने उठ कर समर्थन किया। 

" हाँ, शायद यही था।" 

 फ़ुरसत के लम्हों में अक्सर राधिका उसे निहारती रहती । अब वह स्थान कोकि का हुआ। उसकी माँ उसे आवाज़ लगाती-

 "अरे! कोकि इधर आ, बाहर बहुत धूप  है।" 

 तब वह हाथ हिलते हुए कहती- " मैं अभी नहीं आऊँगी।” उसके हिलते हाथ राधिका को यों ही कुछ कहते से नज़र आते।

 दिन-रात अपनी गति से डग भरते गए। राधिका और कोकि एक दूसरे को देखकर समय व्यतीत करने लगे। एक बंधन जो उन्होंने नहीं बाँधा स्वतः ही जुड़ता चला गया, जो भी पाँच-सात मिनट पहले आता वह दूसरे का इंतज़ार करता। आँखें मिलती एक मिठी मुस्कान के साथ,कोकि मुट्ठी भर स्नेह भेजती और राधिका ममता के फूल। 

कबूतर पता नहीं कब राधिका के कॉरिडोर में आकर रहने लगा और इस कहनी का निमित्त बन गया। वह अकेला नहीं आया, पहले अपने दो अंडे छोड़कर  गया फिर वहीं अपना घर बना लिया। राधिका उसे दाना-पानी  देने लगी, जल्द ही उससे भी दोस्ती हो गई । अब देखकर उड़ता नहीं, वहीं पंख फैलाए बैठा रहता। 

"हाँ,यह वही कबूतर है शायद दोबारा आया है।" अवचेतन से चेतन में लौटी राधिका उसे देखकर फिर यह शब्द दोहराती है।

समय अपनी चाल चलता गया। कोकि कभी उदास तो कभी हँसती जैसे भी रहती पाँच बजे उसी कॉर्नर पर खड़ी मिलती। उसका मौन शब्द बिखेरता, राधिका पलकों पर सहेज लेती। कोकि की घनी काली पलकें बहुत कुछ कह जातीं। मम्मी से कितना लाड- प्यार,कितनी डाँट मिली।इन सब का हिसाब  देने लगी थी,उसकी मुस्कान हृदय में बदरी-सी बरसती। निगाह भर देखना दोनों के लिए तृप्ति का एहसास था।  

उन दिनों अचानक राधिका की बेटी बीमार पड़ गई। कोरिडोर में बैठने का सिलसिला टूट गया। बेटी की तपती काया देख राधिका बिखर-सी गई। झुँझलाहट  कंधों पर टंगी  रहती और दुपट्टा खूँटी पर। या तो कुछ बोलती नहीं, बोलती तो काटने को दौड़ती। एक दिन दो दिन न जाने उस समय बेटी को क्या हुआ था? तब उसे एहसास हुआ जिस मोह  मुक्ति की वह दुहाई देती फिरती है  वह तो अभी भी उसके पल्लू से बँधा पड़ा है ।फिर वह  मुक्त किससे हुई? क्या था जिससे वह स्वयं को मुक्त-सी पाती। एक हल्कापन जो उसे अंबर में उड़ा ले जाता। बादलों के उस पार  धरती की सुंदरता निहारने।

किरायदार शब्द कितना पीड़ादायी होता है, यह एहसास भी उसे उन्हीं दिनों हुआ जब सांसें देह का साथ छोड़ती-सी लगी।

 तभी उस दिन अचानक डोरबेल बजती है।

”आंटी आजकल आप कोरिडोर में क्यों नहीं बैठतीं ? "

छोटा-सा बच्चा बार-बार उचक-उचककर डोरबेल बजाता जाता और कहता जाता, बंदर की भांति एक जगह ठहरने का नाम ही नहीं ले रहा था।

"शरारत नहीं करते, दीदी आराम कर रही है ना। "

राधिका ने बड़े ग़ुस्से से कहा । अब भला बच्चे को क्या पता, कौन आराम कर रहा है?और कौन जाग रहा है? राधिका के शब्दों की गर्माहट से बच्चा चुपचाप वहीं खड़ा हो गया और पैर के पंजे से चप्पलें हिलाने लगा।

"ये क्या प्रश्न है और कौन हो तुम?”

राधिका ने शब्दों पर पड़ने वाले सभी स्वराघात, बलाघात ताक़ पर रखते हुए,भरे बादलों से निकली बिजली-सी मासूम बच्चे पर टूट पड़ी।

” कोकि ने भेजा है।”

 बच्चा अपमान की लहरों पर सवार हो नथुने फूलाने लगा  कि मुझ पर किस बात का इतना ग़ुस्सा! चॉकलेट की जगह शब्दों का चाबुक जड़ दिया!

"क्यों कोकि स्वयं नहीं आ सकती थी?"

राधिका ने स्वर को सँभालते हुए कोकि पर अपना हक जताते हुए कहा।

”बोलती नहीं है वह, बाहर जाने पर मम्मी फटकारती है उसे। "

हाथ में पकड़ी छोटी-सी छड़ी वहीं छोड़ बच्चा दौड़ता हुआ सीढ़ियाँ जल्दी-जल्दी पार कर गया, पीछे मुड़कर भी नहीं देखा कि उसके एक शब्द से  हृदय टूटकर बिखर गया है।जैसे ही राधिका ने कोरिडोर का दरवाज़ा खोला। साँझ की बरसती धूप में कोकि राधिका का इंतज़ार करती मिली। एक हाथ में गेंद,  दूसरे हाथ से गर्दन का पसीना पोंछती। उसकी आँखें शिकायतों के पर्वत गढ़ रही थीं और पलकें नाराज़गी से भीगी हुई थीं।

उस वक़्त राधिका पाषाण से कम न थी। न भावों ने शब्द गढ़े न हाथों ने हिलकर हाय कहा। हृदय ने जिस तूफ़ान को जकड रखा था, कोकि को देख  झरने-सा बह निकला।


@अनीता सैनी 'दीप्ति'

Wednesday, 27 April 2022

मोजड़ी


                   " माँ! बहुत चुभती हैं मोजड़ी।”

 रुआँसा चेहरा लिए, पारुल ने अपना दिल माँ की गोद में रखा। इसी उम्मीद में कि माँ उसे सहलाकर सँभाल लेगी।

" नई मोजड़ी,  सभी को अखरती हैं! धीरे-धीरे इनकी ऐसी आदत लगती है कि कोई और जँचती ही नहीं ।"

माँ झूठ-मूठ की हँसी होठों पर टाँकते हुए बेवजह मेहंदी के घोल को और घोंटती जाती है।

"इनसे से पैरों में पत्थर भी धँसते हैं।"

पारुल अपने ही पैरों की ओर एक टक देखती है। मासूम मन छाले देख सहम जाता है।

 शून्य भाव में डूबी माँ दर्द, पीड़ा; प्रेम इन शब्दों के अहसास से ऊपर उठ चुकी है।बस एक शब्द है गृहस्थी जिसे वह खींचती रहती है। पारुल के पैरों में पड़े छालों पर मेहंदी का लेप लगाते हुए स्वयं के जीवन को दोहराती कि कैसे जोड़े रखते हैं रिश्तों की डोर? माँ परिवार शब्द से बाहर नहीं निकली, इसी शब्द में डूब चुकी है। कभी-कभी तो माँ के हाथों से छूट चेहरे से चिपक जाती है थकान, परंतु माँ है कि बोलती नहीं है। बस एक ही शब्द हाँकती है कुटुंब । यह शब्द पारुल के लिए नया है, तभी चुभती हैं उससे मोजड़ी।

@अनीता सैनी 'दीप्ति'

Saturday, 23 April 2022

धरा की अंबर से प्रीत



               "जलती थी देह! अंबर ने छिटकी थी प्रेम की बूँदें!"

भावशून्य निगाहों से धरा, निशा को एक टक निहारती है।निशा सन्नाटे में सिमटी तारों जड़ा आँचल ओढ़े चाँदनी छान रही है।

 बाहों में ले कहता- " ख़्याल रखना अपना, एक आह! दौड़ा चला आता है!"

अंबर के अटूट प्रेम,विश्वास की एक गाँठ और पल्लू से बाँधती है धरा, कहती है -”हाँ मेरी खबर लेते रहना।"

”देखते ही देखते निहाल हो गई! बादलों का बरसना साधना थी। गृहस्थी फल-फूल रही है। निकम्मे बच्चों को पालना रेगिस्तान में दुब सींचने से कम कहाँ? "

अपने अति लाड-प्यार से बिगड़ैल बच्चों को पल्लू से ढकती है धरा, धीरे-धीरे उनका माथा सहलाती है।

बच्चों पर अपार स्नेह न्योछावर करती बहुत कुछ सहती एक लंबी सांस लेती है।

” अमर प्रेम है आपका!”

पवन पेड़ पर टंगी होले से फुसफुसाती है।धरा पवन के शब्दों को अनसुना करते हुए कहती है-

”एक ही परिवार तो था!  देखते ही देखते दूरियों में दूरिया बढ़ गई। चाँद का चाँदनी बरसाना, सूरज का भोर को लाना उसमें इतना आक्रोश भी न था। बादलों का यों भर-भरकर बरसना सब दाता ही तो थे ! बेटी बिजली का रौद्र रूप कभी-कभी पीड़ा देता है, बेटी है ना ; लाडली जो ठहरी।”

समर्पित भाव में खोई धरा, आह! के साथ तड़प उठती है।

”पुत्र समय! प्रेम की प्रति छवी है, गृहस्थी चलाने को दौड़ता है, घर का बड़ा बेटा है ना! मैं भी दौड़ती हूँ उसके पीछे, ये न कहे माँ निढाल हो गई।”

धरा होले से पालथी मार बैठती है, कहीं हिली तो नादान बच्चे भूकंप भूकंप कह कोहराम न मचा दे! "कहेंगे, ग़ुस्सा बहुत करती है माँ।"

" बच्चों की मनमानी पर यों पर्दा न डाला करो !”

निशा धरा के कंधे पर हाथ रखती है।

" ना री क्या कहूँ उन्हें ? दूध के दाँत टूटते नहीं कि कर्म जले अक्ल फोड़ने बैठ जाते हैं ! पानी है!हवा है!!  गढ़ने बैठ जाते है। नहीं तो यों अंबर में छेद कर मेरे आँचल को तार-तार न करते।”

धरा निशा को स्नेह से भीगी हल्की फटकार लगाती है।


@अनीता सैनी 'दीप्ति'

Wednesday, 13 April 2022

स्वाभिमान का टूटता दरख़्त

                 


                 ”मौत कभी पृष्ठभूमि बनाकर नहीं आती,दबे पाँव कहीं भी चली आती है।”

कहते हुए सुखवीर उठकर बैठ जाता है।

”खाली रिवॉल्वर से जूझती मेरी अँगुलियाँ! उसका रिवॉल्वर मेरे सीने पर था। नज़रें टकराईं! कमबख़्त ने गोली क्यों नहीं चलाई?”

सुखवीर माँझे में लिपटे पंछी की तरह छटपटाता हुआ अर्पिता की गोद में अपना सर रखता है।मौत का यों गले मिलकर चले जाना सुखवीर के लिए अबूझ पहेली बन गई।अर्पिता के हाथ को सहलाते हुए उसकी हस्त-रेखाएँ पढ़ने का प्रयास करता है।

”वह सतरह-अठारह वर्ष का बच्चा ही था ! हल्की मूँछे, साँवला रंग, लगा ज्यों अभी-अभी नया रंगरूट भर्ती हुआ हो ?”

दिल पर लगी गहरी चोट को कुरेदते हुए,सुखवीर बीते लम्हों को मूर्ति की तरह गढ़ता है।आधी रात को झोंपड़ी के बाहर गूँजते झींगुरों का स्वर उस मूर्ति को ज्यों ताक रहे हों।

”भुला क्यों नहीं देते उस वाक़िया को?”

सुखवीर के दर्द का एक घूँट चखते हुए, अर्पिता उसका सर सहलाने लगती है।

 फड़फड़ाते मोर के पंखों का स्वर, तेज़ क्रन्दन के साथ पेड़ की टहनियों से निकलते हुए,मध्यम स्वर में बोलते  ही जाना। स्वर सुनकर दोनों की नज़रें खिड़की से निकल खेतों की ओर टहने निकल पड़ती हैं।

ख़ामोशी को तोड़ते हुए सुखवीर कहता है-

” फौजी पर बंदा एहसान कर गया, सांसें उधार दे कर !”

हृदय की परतों को टटोलते हुए सुखवीर अर्पिता को एक नज़र देखते हुए उसी घटना में डूब जाता है। मन पर रखे भार को कहीं छोड़ना चाहता है।अर्पिता को लगा कि वह टोकते हुए कहे- ”वह पल सौभाग्य था मेरा।” परंतु न जाने क्यों ख़ामोशी शब्द निगल जाती है। महीनों से नींद को तरसती आँखें विचारों में प्रेम ढूँढती हैं। मुट्ठी में दबा ज़िंदगी का टुकड़ा सुखवीर को कहीं चुभता है एक आह के साथ बोल फूट ही पड़ते हैं।

”बंदे को ऐसा नहीं करना चाहिए था !”

नींद ने ज्यों पानी से भीगी पलकों पर दस्तक दी हो!सुखवीर आँखें बंद कर लेता है, देखते ही देखते हल्के झोंके के साथ स्वाभिमान का भारी दरख़्त टूट कर धरती पर गिर पड़ता है, गिरने के तेज़ स्वर से सहमी अर्पिता सुखवीर को सीने से लगा लेती है।


@अनीता सैनी 'दीप्ति'

Sunday, 3 April 2022

पेैबंद लगा पुरुष-हृदय


                   अहं में लिप्त पुरुष-हृदय करवट बदलता, स्त्री-हृदय को अपने प्रभुत्त्व का पाठ पढ़ाते हुए कहता है-

" काल के पैरों की आहट हूँ मैं! जब-जब काल ने करवट बदली,मेरा अस्तित्त्व उभर कर सामने आया है।"

  स्त्री-हृदय पुरुष-हृदय की सत्ता स्वीकारता है और खिलखिलाकर कहता है।

”चलो फिर बादलों में रंग भरो! बरसात की झड़ी लगा दो।”

कुछ समय पश्चात बादल घने काले नज़र आते हैं और बारिश होने लगती है।

”अब धूप से आँगन सुखा दो।”

कुछ समय पश्चात धूप से आसमान चमक उठता है।

" अच्छा अब अँधरे को रोशनी में डुबो दो। "

और तभी आसमान में चाँद चमक उठता है।

 समय के साथ पुरुष-हृदय का सौभाग्य चाँद की तरह चमकने लगता है।

अगले ही पल प्रेम में मुग्ध स्त्री-हृदय पुरुष-हृदय से आग्रह करते हुए कहता है-

"अब मुझे खग की तरह पंख लगा दो, पेड़ की सबसे ऊँची शाख़ पर बिठा दो।"

पुरुष-हृदय विचलित हो उठा, स्त्री-हृदय की स्वतंत्रता की भावनाएँ उसे अखरने लगती है। ”मुक्त होने का स्वप्न कैसे देखने लगी?” उसी दिन से पुरुष-सत्ता क्षीण होने लगती है।

 पेड़ की शाख़ पर बैठा पुरुष-हृदय छोटी-छोटी टहनियों से स्त्री-हृदय को स्पर्श करते हुए, स्वार्थ में पगी उपमाएँ गढ़ता है वह कोमल से अति कोमल स्त्री-हृदय गढ़ने का प्रयास करता है प्रेम और त्याग का पाठ पढ़ाते हुए कहता है -

”तुम शीतल झोंका, फूलों-सी कोमल, महकता इत्र हो तुम ममता की मुरत, प्रेमदात्री तुम।"

 स्त्री-हृदय एक नज़र पुरुष-हृदय पर डालता है शब्दों के पीछे छिपी चतुराई को भाँपता है और चुप चाप निकल जाता है।

” बला ने गज़ब ढाया है! रात के सन्नाटे को चीरते हुए निकल गई ! पायल भी उतार फेकी! चुड़ैल कैसे कहूँ? गहने भी नहीं लादे! लालचन लोभन कैसे कह पुकारूँ?"

वृक्ष की शाख़ पर बैठा पुरुष-हृदय, पेड़ के नीचे टहलते स्त्री-हृदय को देखता है।

देखता है! मान-सम्मान और स्वाभिमान का स्वाद चख चुका स्त्री-हृदय तेज़ धूप, बरसते पानी और ठिठुराती सर्दी से लड़ना जान चुका है। वर्जनाओं की बेड़ियों को तोड़ता सूर्योदय के समान चमकता, धरती पर आभा बिखेरता प्रकृति बन चुका है। 


@अनीता सैनी 'दीप्ति ' 

विसर्जन

                   ”ग णगौर विसर्जन इसी बावड़ी में करती थीं गाँव की छोरियाँ।” काई लगी मुंडेर पर हाथ फेरती शारदा बुआ मुंडेर से अपनी जान-पहचान ब...