Powered By Blogger

Saturday, 20 August 2022

ख़ामोश सिसकियाँ

                              


                                      ”देख रघुवीर ! इन लकड़ियों के पाँच सौ से एक रुपया  ज़्यादा नहीं देने वाला। तुमने कहा- चार खेजड़ी की हैं, यह दो की नहीं लगती!”

दोनों हाथ कमर पर धरे एक पैर आगे बढ़ाए खड़ा प्राइमरी स्कूल का अध्यापक व रघुवीर का छोटा भाई धर्मवीर।

”कैसे नहीं लगती दोनों जगह वाली दो-दो खेजड़ी की हैं, पूछो सुनीता, सुमन और सजना से, हम चारों ने मिलकर इकट्ठा की हैं।”

रघुवीर चोसँगी ज़मीन में गाड़ते हुए पसीना पोंछता है।

”देख भाई!  पाँच सौ से एक रुपया ज़्यादा नहीं देने वाला,तू जाने तेरा काम जाने; अब तू यह बता सुखराम दो दिन से स्कूल क्यों नहीं आ रहा?”

धर्मवीर रघुवीर की दुःखती रग पर हाथ रखते हुए ऊँट पर बैठे सात साल के सुखराम की ओर इशारा करता है, सुखराम अध्यापक कहे जाने वाले काका को देखता हुआ दाँत निपोरता है।

”काका! काका! यह हमारे साथ भट्टे पर मिट्टी खोदने जाता है।”

तीनों लड़कियाँ एक स्वर में एक साथ बोलती हैं।

” तू इन छोरियों के जीवन से कैसा खिलवाड़ कर रहा है? पास के गाँव के स्कूल में दाख़िला क्यों नहीं करवाता इनका!”

पास पड़ी लकड़ियों को धर्मवीर घूम-घूमकर देखता है। ”हाँ लकड़ियाँ हैं तो मोटी-मोटी, बढ़िया है। आड़ू को क्या पता मन और पंसेरी का ?”

रघुवीर की मासूमियत पर धर्मवीर अपनी राजनीति का लेप चढ़ाता है।

”तू अपने भट्टे पर पराली क्यों नहीं काम में लेता? खेत की लकड़ियाँ मेरे भट्टे पर डाल दिया कर, मैं छोरियों के स्कूल की व्यवस्था करता हूँ। तू  निरा ऊँट का ऊँट रहा, इन्हें तो इंसान बनने दे!”

कहते हुए धर्मवीर सूरज को ताकता है और वहाँ से स्कूल के लिए निकल जाता है।

”कलियुग में कौवों का बोलबाला है। कैसे बचेंगीं चिड़ियाँ ? कौन पिता होगा जो नहीं चाहता हो कि उसकी बेटियों को पंख और खुला आसमान न मिले?”

रघुवीर घर्मवीर की ओर देखता हुआ अंगोंछा सर पर कस के बाँधता है।

”बापू ! बापू ! स्कूल जाना है हमें।”

सुमन, सजना मन को पसीजते हुए कहती हैं।

”दिखता नहीं ! बापू की आँख में पसीना चला गया। चल दूर हट छाँव में बैठने दे!”

बड़ी लड़की सुनीता अपने पिता रघुवीर की ओर पानी से भरा जग बढ़ाती है।


@अनीता सैनी 'दीप्ति'

36 comments:

  1. यथार्थ का सटीक चित्रण। सराहनीय लघुकथा ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय से आभार आपका।
      सादर स्नेह

      Delete
  2. कौन पिता होगा ऐसा, जो नहीं चाहता कि उसकी बेटियों को उड़ने के लिए पंख और खुला आसमान मिले ? लाजवाब लघु कथा ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी हृदय से आभार आपका।

      Delete
  3. विचारणीय लघु कथा । लड़कियों को कहीं भी सुरक्षा नहीं मिल पाती । सुरक्षित रखने के लिए उनके पंख ही कतर दिए जाते हैं ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय से आभार आदरणीया संगीता दी जी सृजन सार्थक हुए।
      आशीर्वाद बनाए रखें।
      सादर प्रणाम

      Delete
  4. लड़कियों की सुरक्षा की चिंता माता-पिता को हमेशा लगी रहती है ।पिता की इसी सोच को दर्शाती सुन्दर लघुकथा ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सही कहा आपने दी पिता के कठोर व्यवहार में भी प्रेम होता है। उसके निर्णय में परिवार की रक्षा का भाव।
      हृदय से आभार।
      सादर स्नेह

      Delete
  5. आपकी लिखी रचना सोमवार 22 अगस्त 2022 को
    पांच लिंकों का आनंद पर... साझा की गई है
    आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    सादर
    धन्यवाद।

    संगीता स्वरूप

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय से आभार आदरणीया दी जी मंच पर स्थान देने हेतु।
      सादर

      Delete
  6. पिता की मजबूरी ...समझती हैं पुत्रियाँ भी.

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय से आभार आदरणीया दी।

      Delete
  7. समसामयिक और सार्थक रचना यथार्थ को बखूबी रेखांकित किया है आपने

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय से आभार प्रिय सखी।
      सादर

      Delete
  8. बहुत मार्मिक कहानी !

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय से आभार आपका दी।

      Delete
  9. लड़कियां सुरक्षित रहें बस सुंदर लघुकथा

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी सही कहा आपने।
      हृदय से आभार आपका

      Delete
  10. कलियुग में कौवों का बोलबाला है। कैसे बचेंगीं चिड़ियाँ ? कौन पिता होगा जो नहीं चाहता हो कि उसकी बेटियों को पंख और खुला आसमान न मिले?”
    संवेदनशील प्रश्न करती सराहनीय लघुकथा अनु।
    सस्नेह।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय से आभार श्वेता दी आपकी प्रतिक्रिया से उत्साह द्विगुणित हुआ।
      सादर स्नेह

      Delete
  11. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल बुधवार (24-08-2022) को "उमड़-घुमड़ कर बादल छाये" (चर्चा अंक 4531) पर भी होगी।
    --
    कृपया कुछ लिंकों का अवलोकन करें और सकारात्मक टिप्पणी भी दें।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय से आभार आदरणीय सर मंच पर स्थान देने हेतु।
      सादर

      Delete
  12. बेटियों के प्रति असुरक्षा की भावना पिता को मजबूरीवश कठोर बना देती है। पिता की इस मजबूरी को बेतिया भी बखूबी पहचानती है। सुंदर लघिकथा।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी हृदय से आभार प्रिय ज्योति बहन।
      सादर स्नेह

      Delete
  13. मार्मिक अभिव्यक्ति, वाह वाह!

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय से आभार आदरणीय सर।
      सादर

      Delete
  14. "कलियुग में कौवों का बोलबाला है। कैसे बचेंगीं चिड़ियाँ ?" सबसे बड़ा सच! 'बेटी पढ़ाओ, बेटी बचाओ' के संदेश शंखनाद करती लघुकथा!

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय से अनेकानेक आभार आदरणीय विश्वमोहन जी सर।
      लघुकथा के मर्म को स्पष्ट करती प्रतिक्रिया से उत्साह द्विगुणित हुआ।
      सादर नमस्कार

      Delete
  15. बहुत ही सुंदर भावपूर्ण हृदयस्पर्शी सृजन

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार अनुज आपका।

      Delete
  16. मार्मिक कथा !
    लड़कियां अपने-अपने बापों पर जान छिड़कती हैं और उनका दर्द समझती हैं. पर क्या उनके बाप उन्हें बोझ मानने के अलावा कुछ समझते हैं?

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय गोपेश मोहन जी सर हार्दिक आभार,आपका दृष्टिकोण मिला इस लघुकथा पर।
      सही कहा आपने,क्या आप की दृष्टि में सच एक पिता ऐसे विचार रखता है? या सदियों से ऐसी हवा गढ़ी जा रही है कि वह बाप बेटियों को बोझ समझे अगर वह नहीं समझता तो उसे गुनहगार बनाकर लाइन में खड़ाकर दिया जाता है कि उसने क्यों ऐसा विचार नहीं किया।
      सादर प्रणाम

      Delete
  17. कलियुग में कौवों का बोलबाला है। कैसे बचेंगीं चिड़ियाँ ? कौन पिता होगा जो नहीं चाहता हो कि उसकी बेटियों को पंख और खुला आसमान न मिले?”
    पर कौवों के डर से कब तक छुपेंगी चिड़िया... अब बेटियों के पिताओं को बेटियों का सम्बल बन उन्हें खुला आसमान देना ही होगा
    कटु सत्य को उजागर करती बहुत ही लाजवाब लघुकथा ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी सही कहा आपने हार्दिक आभार।

      Delete
  18. क्या बढ़िया लघुकथा लिखी है आपने। कलियुग में कौओ वाली बात बहुत फिट बैठती है। हालाँकि मेरा मानना है कि चिड़ियों को जीना है तो कौओं से लड़ने और बचने का कौशल सीखना ही होगा। यही एक मार्ग है। आपकी यह लघुकथा सीधे हृदय को झकझोर रही है। आपको बहुत-बहुत बधाईयां। शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार आपका ऊर्जावान प्रतिक्रिया से उत्साह द्विगुणित हुआ।
      सादर

      Delete

भावों की तपिश

          ”हवा के अभाव में दम घुट रहा है, हमारा नहीं; पहाड़ों का। द्वेषी है! पेड़ों को पनपने नहीं देता!! " पहाड़ों पर भटके एक पंछी ने फो...