Powered By Blogger

Saturday, 1 October 2022

लकीरें


                           " कामवालियों के हाथों में लकीरें नहीं होतीं!” मेहँदी रचे हाथ दिखाते हुए वह उसकी हथेली देखते हुए कहती है।

उसने पीछे मुड़कर उसको जाते हुए देखा और फिर बर्तन धोने लगी।

”तुम्हें दुख नहीं होता ?”

धुली कटोरियाँ उठाते हुए दूसरी ने कहा।

"ज़िंदगी की आपा-धापी में बिछड़ गए सुख-दुख।” पथराई आँखों से कैलेंडर को ताकते हुए वह कहीं खो जाती है।सहसा फिर चुप्पी तोड़ते हुए कहती है -

 ”पत्ते सरीखे होते हैं दुःख, अभी ड्योढ़ी तक बुहारकर आई हूँ !”

उसाँस के साथ साड़ी से हाथ पोंछते हुए ढलते सूरज की  हल्की रोशनी में अपनी सपाट हथेली पर उसने फिर से लकीरें उगानी चाहीं।


@अनीता सैनी 'दीप्ति'

11 comments:

  1. आपकी लिखी रचना  ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" रविवार 02 अक्तूबर 2022 को साझा की गयी है....
    पाँच लिंकों का आनन्द पर
    आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. सादर नमस्कार ,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (2-10-22} को "गाँधी जी का देश"(चर्चा-अंक-4570) पर भी होगी। आप भी सादर आमंत्रित है,आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ायेगी।
    ------------
    कामिनी सिन्हा

    ReplyDelete
  3. अद्भुत ! लाजवाब लघु कथा ।

    ReplyDelete
  4. बहुत ही सुंदर सृजन लघुकथा

    ReplyDelete
  5. सारगर्भित संदेश समाहित किये बेहतरीन लघुकथा । अप्रतिम सृजन ।

    ReplyDelete
  6. मार्मिक रचना

    ReplyDelete
  7. वाह अनीता ! सर्वहारा वर्ग के दुखों को ख़ुद महसूस कर के, उनको तुम बखूबी, अपनी कलम के माध्यम से हम तक पहुंचा देती हो.

    ReplyDelete
  8. छोटी सी लघु कथा नावक के तीर की तरह अंतर को झकझोर गई।
    अद्भुत!!

    ReplyDelete
  9. अद्भुत लेखन, बहुत ही सुंदर भावपूर्ण हृदयस्पर्शी लघु कथा

    ReplyDelete
  10. भावभरी लघुकथा ।

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर सृजन

    ReplyDelete

दर्द का कुआँ

                                                 वह साँझ ढलते ही कान चौखट पर टांग देती थी और सीपी से समंदर का स्वर सुनने को व्याकुल धड़कनों ...