Powered By Blogger

Saturday, 22 April 2023

बिडंबना

        लघुकथा /बिडंबना /अनीता सैनी 'दीप्ति'

गुमनाम डायरी से

...


            प्यास के मारे मेरा गला सूख रहा था। मैं गाँव के बाहर नीम के नीचे चबूतरे पर पसरा पड़ा था। मेरा एक पैर और एक हाथ चबूतरे से नीचे लटका हुआ था। डालियों से झाँकती धूप रह-रहकर मेरी देह जला रही थी। दो गिलहरियाँ मेरे पास ही खेल रही थी। वे उचक-उचक कर देख रही थीं मुझे। 

     गाँव के बच्चों लिए मैं कौतुहल का विषय था। वे जो अभी-अभी दो औरतें निकली थीं न, उनमें एक देवकी भाभी है। शायद वह नहीं पहचान पाई मुझे। मैं पूरे उन्नीस वर्ष बाद गाँव आया हूँ।

  आसमान से झाँकते तारे, गायें रँभाती हुई गाँव की तरफ़ दौड़ रही थीं। कुत्तों के भौंकने का स्वर मेरे कानों से टकरा रहा था।

 रास्ते से गुज़रते हुए बिरजू काका की नज़र जैसे ही मुझ पर पड़ी उन्होंने मेरा लटका हुआ हाथ सीने पर और पैर चबूतरे पर रखा।

 छगन काका ने मेरा मुँह सूँघते हुए कहा- "दारू पी के पड़ा है, पर है कौन?” जब वे  हमारे घर के सामने से गुज़रे, उन्होंने माँ से मजाक में यों ही कह दिया- ”उन्नीस वर्ष बाद तुम्हारा धर्मवीर आया है,वहाँ! नीम के नीचे पसरा पड़ा है।”

माँ ने भी तपाक से कह दिया-"उसने आज तक मुझे कौनसा सुख दिया है। जो आज देने आया है।"

 चीटियाँ मेरे कान में घुसने लगी थीं। मैंने देखा मेरे कान से ख़ून बह रहा है। मैं उठकर बैठ गया परंतु मेरा शरीर वहीं चबूतरे पर पसरा पड़ा था।

माँ-बापू को अनजान आदमी में बेटे के होने की लालसा खींच लाई शायद। वे मेरी ओर ही दौड़ते हुए आ रहे हैं और पीछे-पीछे छोटा भाई भी। ये हाथ बाँधे क्यों खड़े हैं? "मैं हूँ तुम्हारा धर्मवीर मैं…मैं।” कहते हुए मैं बापू को घूरने लगा।

 "देखना! छोटा भाई देखते ही मुझे सीने से लगा लेगा।” इस विचार के साथ ही मैं मचल उठा।

"बेसुध पड़ा है पीकर।” कहते हुए छोटे भाई ने दूरी बना ली। मेरे 'मैं ' को बहुत ठेस पहुँची और मैंने लंबी साँस भरी।

माँ मेरी पीठ पर कुछ ढूँढ़ रही थी।

”शारदा वो नहीं है यह।" कहते हुए बापू ने माँ का हाथ पकड़कर खींच लिया। यों एक अनजान आदमी वो भी एक शराबी, बापू को माँ का यों छूना गवारा न था। माँ का स्पर्श मुझे बहुत अच्छा लगा। माँ विश्वास और अविश्वास के तराजू में तुल रही थी। दिल और दिमाग़ के खेल में माँ का दिमाग़ जीत गया। हड़बड़ी में माँ भूल गई वह चोट का निशान मेरे दाहिनी साइड में है न की बायीं ओर।

बापू ने मेरे मुँह पर पानी डाला। कुछ पिलाने का प्रयास भी किया। प्यास के मारे मेरा गला सूख रहा था परंतु एक घूँट भी मैं गटक नहीं पाया। यह देखकर माँ रोने लगी। छोटा भाई अब भी दूर खड़ा था। वह मेरे पास नहीं आया। बापू ने कहा- "पता नहीं कौन है? यहाँ हमारे गाँव में ही आकर क्यों मरा?”

Saturday, 1 April 2023

विसर्जन



                   ”गणगौर विसर्जन इसी बावड़ी में करती थीं गाँव की छोरियाँ।”

  बुआ काई लगी मुंडेर पर हाथ फेरती हुई उस पर बचपन की स्मृतियाँ ढूंढ़ने लगी।

 दादी के हाथों सिले घाघरे का ज़िक्र करते हुए बावड़ी से कह बैठी -

”न जाने कितनी छोरियों के स्वप्न लील गई तु! पानी नहीं होता तो भी तुझमें ही पटककर जाती।”

आँखें झुका पैरों में पहने चाँदी के मोटे कड़ों को हाथ से धीरे-धीरे घुमाती साठ से सोलह की उम्र में पहुँची बुआ उस वक़्त, समय की चुप्पी में शब्द न भरने की पीड़ा को आज संस्कार नहीं कहे।

" औरतें जल्दी ही भूल जाती हैं जीना कब याद रहता है उन्हें कुछ ?”

 बालों की लटों के रूप में बुआ के चेहरे पर आई मायूसी को सुदर्शना ने कान के पीछे किया।

" उस समय सपने कहाँ देखने देते थे घरवाले, चूल्हा- चौकी खेत-खलिहान ज़मींदारों की बेटियों की दौड़ यहीं तक तो थीं?”

जीने की ललक, कोंपल-से फूटते स्वप्न; उम्र के अंतिम पड़ाव पर जीवन में रंग भरतीं सांसें ज्यों चेहरे की झूर्रियों से कह रही हों तुम इतनी जल्दी क्यों आईं ?

चुप्पी तोड़ते हुए सुदर्शना ने कहा-

"छोरियाँ तो देखती थीं न स्वप्न।”

"न री! बावड़ी सूखी तो तालाब, नहीं तो कुएँ और हौज़ तो घर-घर में होते हैं उनमें डुबो देती हैं।”

”स्वप्न या गणगौर ?”

सुदर्शना ने बुआ को टटोलते हुए प्रश्न दोहराया।

 हृदय पर पड़े बोझ को गहरी साँस से उतारते हुए सावित्री बुआ ने धीरे से कहा-

"स्वप्न।” 


@अनीता सैनी 'दीप्ति'

सीक्रेट फ़ाइल

         प्रतिष्ठित साहित्यिक पत्रिका 'लघुकथा डॉट कॉम' में मेरी लघुकथा 'सीक्रेट फ़ाइल' प्रकाशित हुई है। पत्रिका के संपादक-मंड...