Powered By Blogger

Monday, 15 August 2022

ठूँठपन


                        रिमझिम बरसात की झड़ी कजरी के मीठे स्वर-सी प्रतीत हो रही थी। मानो एक-एक बूँद प्रेम में झूम रही हो। जो प्रेम में था उसके लिए बारिश प्रेमल थी और जिसका हृदय पीड़ा में था उसके लिए समय की मार! अपनों के लिए अपनों को दुत्कारना फिर उन्हें अपनाने की चाह में भटकती धनकोर अनायास ही कह बैठती है -

”गृहस्थी में उलझी औरतें प्रेम में पड़ी औरतों-सी होती हैं।” स्वयं के अधीर मन को ढांढ़स बंधाती बारिश में भीगी ओढ़नी निचोड़कर उससे मुँह पोंछती है।

” किसी एक की परवाह में उलझी दूसरे के हृदय से कब ओझल हो जाती हैं, गृहस्थ औरतें जानते हो ना आप?”

स्पष्ट शब्द अशिष्टता की श्रेणी में कब खड़े कर दिए जाते हैं इसी विचार के साथ धनकोर के दृष्टिकोण को धारण करते हुए,सीढ़ियों पर बैठी गीता सूखा टॉवल उसकी ओर बढ़ाती है।

”तभी कहती हूँ लौट आ, तू वह नहीं रही जो पच्चीस वर्ष पहले थी।”

पश्चाताप की अग्नि में जलती धनकोर ममत्व भाव उड़ेलती, अचानक बिजली गिरे वृक्ष से लिपटकर सुबकने लगती है। उम्र के इस पड़ाव पर ज़रूरत का ताक़ाज़ा देती है इसी उम्मीद के साथ कि कोंपल फिर फूट जाएगी और वृक्ष हरा-भरा हो जाएगा।

"भूल क्यों नहीं जाते घटना और घटित लोगों को?”

कहते हुए- गीता के आँसू बहे न हृदय का भार बढ़ा और न ही पीड़ा के अनुभव से स्वर में आए कंपन ने अपना रुख़ बदला, सच यह ठूँठपन नहीं तो और क्या था उसका?


@अनीता सैनी 'दीप्ति'

13 comments:

  1. यह रिश्तों की उलझन भरी लघु कथा लग रही है । एक कि बेवफाई दूसरे का आत्म सम्मान लेकिन वक़्त की मार के साथ ज़रूरतें बदल जाती हैं ।इंसान का रुख ज़िन्दगी में समझौतों पर आ टिकता है ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर नमस्कार दी।
      आपने ठीक कहा एक पीढ़ी पहले की औरतों को देख भाव उपजे जिनकी पीड़ा मेरे लिए असहनीय थी। समय के भंवर में उलझा एक बिम्ब हृदय पर उभर आया।
      सादर

      Delete
  2. “गृहस्थी में उलझी औरते प्रेम में पड़ी औरतों-सी होती हैं। गृहस्थी की फ़िक्र बहुत सताती है उन्हें।”
    गृहस्थ जीवन की आपाधापी को सजीव करती मर्मस्पर्शी लघुकथा ।

    ReplyDelete
  3. सादर नमस्कार ,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कलबुधवार (17-8-22} को "मेरा वतन" (चर्चा अंक-4524) पर भी होगी। आप भी सादर आमंत्रित है,आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ायेगी।
    ------------
    कामिनी सिन्हा

    ReplyDelete
  4. वाह! अनीता,सुंदर भावो से सजी लघुकथा । सच ही कहा आपने ताउम्र समझौता ही करती है ...स्वयं का अस्तित्व कहाँ रह जाता है फिर व


    ReplyDelete
  5. बहुत से प्रश्न उठ खड़े होते हैं, मुझे लघुकथाओं में एक लंबी कहानी के बीज दिखाई देते हैं।

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सुन्दर सार्थक लघुकथा सखी

    ReplyDelete
  7. प्रभावशाली लेखन

    ReplyDelete
  8. स्पष्ट शब्द अशिष्टता की श्रेणी में कब खड़े कर दिए जाते हैं ।
    बहुत सटीक आजकल चापलूसों का जमाना है स्पष्टवादी फूहड़ कहलाता है और रिश्तों को निबाहते हुए भी तन्हा जीता है ।
    बहुत सुन्दर सार्थक लघुकथा ।

    ReplyDelete
  9. गृहस्थी के प्रेम में उलझी औरतें सचमुच एक ही तरफ इतनी उलझ जाती है कि उस एक प्रतिबद्धता में वो किसी एक को या कुछ को मासूमियत से उपेक्षित करती जाती हैं ।
    और एक ऐसा समय आता है कि उसी उपेक्षित पात्र की उसे कमी महसूस होती है या फिर याद आता है अपने द्वारा की गई अनदेखी।
    पर तब तक समय बीत चुका होता है।
    गहन भाव लिए हृदय स्पर्शी लघु कथा।

    ReplyDelete
  10. गहन भाव लिए बहुत सुंदर लघुकथा।

    ReplyDelete
  11. स्त्री विमर्श का सुंदर चित्रण ।

    ReplyDelete

भावों की तपिश

          ”हवा के अभाव में दम घुट रहा है, हमारा नहीं; पहाड़ों का। द्वेषी है! पेड़ों को पनपने नहीं देता!! " पहाड़ों पर भटके एक पंछी ने फो...