Powered By Blogger

Tuesday, 15 March 2022

मैं हूँ


                       “मेरा ईमेल चैक करते रहना, ख़ैर ख़बर मिलती रहगी कि मैं हूँ।”  उस दिन फोन पर प्रदीप के शब्दों में जोश नहीं, प्रेम था। प्रेम जो सांसों से बहता हुआ शब्दों में ढलता कह रहा हो बस आख़िरी मिशन... फिर रिज़ाइन लिख दूँगा, अब बस और नहीं होती यह नौकरी।

"मैं हूँ से मतलब …?” कहते हुए भावातिरेक में तान्या के शब्द  लड़खड़ा रहे थे। वाक्यों की गठान ठीक न जोड़ पाई। उसने प्रदीप को इतना पढ़ा कि उसके इन शब्दों का प्रत्युत्तर ठीक से नहीं दे सकी। फिर चाहे किताब हो या इंसान; अक़्सर ऐसा होता है, ज़्यादा पढ़ने से तारतम्यता टूट जाता है।

 “मैं हूँ से मतलब मैं हूँ…।" हल्के स्वर में प्रदीप ने ये शब्द फिर दोहराये थे। इस बार गला रुँधा हुआ नहीं था, अपितु जोश था। नहीं रुँधा हुआ था। इन्हीं ख़्यालों में गुम तान्या कॉरिडोर में रखी ख़ाली कुर्सी को एक टक ताक रही थी। एक पखवाड़ा बीत गया प्रदीप की व्यस्तता के चलते न कोई ईमेल न ही फोन बस का एहसास था।

 “मैं हूँ”


@अनीता सैनी 'दीप्ति'

12 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि के लिंक की चर्चा कल बुधवार (16-03-2022) को चर्चा मंच     "होली की दस्तूर निराला"   (चर्चा अंक-4371)     पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य यह है कि आप उपरोक्त लिंक पर पधार कर चर्चा मंच के अंक का अवलोकन करे और अपनी मूल्यवान प्रतिक्रिया से अवगत करायें।
    -- 
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'   

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  3. भावपूर्ण भावाभिव्यक्ति ….अति सुन्दर ॥

    ReplyDelete
  4. "मैं हूँ" ये एक शब्द जीने की आस भी और डर का अहसास भी।
    एक देशभक्त वीर की पत्नी की मनोदशा की हृदयस्पर्शी अभिव्यक्ति की है आपने अनीता जी।

    ReplyDelete
  5. मैं हूँ मार्मिक लघुकथा

    ReplyDelete
  6. मैं हूँ एक मार्मिक लघुकथा बधाइयाँ।

    ReplyDelete
  7. ओह! इतना दर्द है, बैचेनी है इस मैं हूँ में सच सिहरन सी उठरही है ।
    अप्रतिम सृजन, हृदय तक उतरता।

    ReplyDelete
  8. वही अहसास उतार दिया पाठक के हृदय में !

    ReplyDelete
  9. भावुक कर दिया
    बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर , मार्मिक , भावुक कर देने वाली लघु कथा, जय श्री राधे।

    ReplyDelete
  11. हृदयस्पर्शी मार्मिक लघुकथा । बधाई अनीता को

    ReplyDelete
  12. मैं हूँ यही काफी ह़ोता है परिवार के लिए... साँसे थमी होती हैं सूचना आये तो साँसे चले...
    उस खौफ और उस दर्द को जो जीता है वह भी बयां नहीं कर पाता...जिन्हें आपने शब्द दिया।
    🙏🙏🙏🙏

    ReplyDelete

स्वप्न नहीं! भविष्य था

                       स्वप्न नहीं! भविष्य वर्तमान की आँखों में तैर रहा था और चाँद  दौड़ रहा था।  ”हाँ! चाँद इधर-उधर दौड़ ही रहा था!! तारे ठह...