Followers

Thursday, 16 April 2020

मरुस्थल का मौन संवाद

      दूर-दूर तक अपना ही विस्तार देख मरु मानव को भेजता है एक संदेश। वह भी चाहता है तपते बदन पर छाँव। निहारना चाहता है जीव-जंतुओं को। सुबह-सुबह उठना चाहता है सुनकर बैलों-ऊँटों की घंटियों की मधुर ध्वनि।थक गया है धूल से उठते बवंडर देख-देखकर। नम आँखों से फिर वह भी हँसने लगता है, देखता है मानव के कृत्य; तभी दूर से आती आँधी को देखता है और कहता है -

"मरुस्थल का विस्तार तीव्र गति से बढ़ रहा। जिस  मानव का मन हरियाली में मुग्ध है उस तक ससम्मान मेरा संदेश पहुँचा दो।"

सर्वाधिक गतिशील अर्द्धचंद्राकार बालू के स्तूप बरखान ने अपनी जगह बदलते हुए कहा-

"बढ़ रहे हैं हम, बढ़ावा इंसान दे रहा है। सब सहूलियत से जो मिल रहा है उसे गँवाने को आतुर लग रहा है। एक पल के जीवन की ख़ातिर बच्चों का भविष्य दाँव पर लगा रहा है, ना-समझ हृदय पर भी विस्तार मरुस्थल का कर रहा है।"

बरखान ने हवा को उसी दिशा में धकेला जिधर से वह आयी थी, ग़ुस्से में हवा ने अपना रुख़ बदला। बालू को आग़ोश में लिया, स्वरुप बवंडर का दिया;अब गर्त को अपना स्वरुप प्राप्त हुआ वह भी सभा में सहभागिता जताता है। 

"समझ के वारे-न्यारे पट खुले हैं मानव के। क्या दिखता नहीं  कैसे हवा हमें खिसकाती है और जगह बनाती है। रण (टाट ) के लिए और खडींन की मटियारी मिट्टी जिजीविषा के साथ पनपती है वहाँ।"

गर्त अपना रुप प्राप्त करता है, बालू उठने से कुछ तपन महसूस करता है। जलते बदन को सहलाता हुआ अपने विचार रख ही देता है। 

"परंतु राह में इंदिरा गाँधी नहर रोड़ा बनेगी,कैसे पार करेंगे  उसे? सुना है पेड़-पौधे लगाए जा रहे हैं। बाड़ से बाँधा जा रहा है हमें।"

 पवन के समानांतर  चलते हुए, बनने वाले अनुदैधर्य स्तूप ने हवा के चले जाने पर अपना मंतव्य रखा। 

"हम नहीं करेंगे उस ओर से निमंत्रण स्वयं हमारे पास आएगा। वे आतुर हैं स्वयं को मरुस्थल बनाने के लिए। क्या सुना है कभी बाड़ ने बाड़े को निगला, नहीं न... तो अब देखो।"

अनुप्रस्थ ने समकोण में अपनी आकृति बनाई,  चारों तरफ़ निग़ाह दौड़ाई और कहा-

"वह देखो,  ऊँटों की टोळी कैसे दौड़ रही है? मरीचिका-सी!

कहीं ठाह मिली इन्हें? नहीं न... इसी के जैसे चरवाहे आसान करेंगे थाह हमारी। 

तीनों आपस में खिसियाते हैं,तेज़ धूप को पीते हुए। अब वे तीनों हवा के साथ उठे बवंडर के साथ अपना स्थान बदलते हैं।  एकरुपता इतनी की मानव को भी मात दे गए हैं। नम आँखों से आभार व्यक्त करते हैं मानव का जिसने उसे के स्वरुप को ओर विस्तार दिया है।

©अनीता सैनी 

20 comments:

  1. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना शुक्रवार १७ अप्रैल २०२० के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार प्रिय श्वेता दीदी पाँच लिंकों के आनंद पर मेरी लघुकथा को स्थान देने हेतु.
      सादर

      Delete
  2. सार्थक प्रस्तुति !

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार आदरणीय उत्साहवर्धक समीक्षा हेतु.
      सादर

      Delete
  3. "बढ़ रहे हैं हम, बढ़ावा इंसान दे रहा है। सब सहूलियत से जो मिल रहा है उसे गँवाने को आतुर लग रहा है। एक पल के जीवन की ख़ातिर बच्चों का भविष्य दाँव पर लगा रहा है, ना-समझ हृदय पर भी विस्तार मरुस्थल का कर रहा है।"
    सार्थक और तार्किक सृजन अनीता जी

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार आदरणीया कामिनी दीदी उत्साहवर्धक समीक्षा हेतु.
      सादर

      Delete
  4. रण (टाट ) के लिए और खडींन की मटियारी मिट्टी जिजीविषा के साथ पनपती है वहाँ।"
    वाह!!!
    अद्भुत!!!बहुत सुन्दर सार्थक एवं लाजवाब सृजन।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार आदरणीया दीदी उत्साहवर्धक समीक्षा हेतु.
      सादर

      Delete
  5. बहुत अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार आदरणीय सर उत्साहवर्धक समीक्षा हेतु.
      सादर

      Delete
  6. मरुस्थल के विस्तार के लिए मनुष्य का प्रकृति के प्रति आक्रामक संवेदनहीन रबैया ज़िम्मेदार है। लघुकथा कहीं-कहीं गद्य कविता-सी हो जाती है जब बिंबात्मकता उद्देश्य को स्पष्ट करते हुए रसमय हो जाती है। स्थानीय शब्दावली और मरुस्थल संबंधी विशिष्ट शब्द कथा की रोचकता तो बनते हैं किंतु पाठक को अर्थों के फेर में उलझा देते हैं।
    संलग्न चित्र लघुकथा के मर्म को समझाने में सहायक है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार आदरणीय सर सुंदर सारगर्भित समीक्षा हेतु.
      बहुत बहुत आभार मनोबल बढ़ाने हेतु.
      सादर

      Delete
  7. सादर नमस्कार ,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (19 -4 -2020 ) को शब्द-सृजन-१७ " मरुस्थल " (चर्चा अंक-3676) पर भी होगी,
    आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    ---
    कामिनी सिन्हा

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार आदरणीय कामिनी दीदी चर्चामंच पर मेरी लघुकथा को स्थान देने हेतु.
      सादर

      Delete
  8. बहुत खूब शानदार प्रस्तुति।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार आदरणीया कुसुम दीदी उत्साहवर्धक समीक्षा हेतु.
      सादर

      Delete
  9. बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार आदरणीय सर उत्साहवर्धक समीक्षा हेतु.
      सादर

      Delete
  10. सार्थक प्रस्तुति

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार आदरणीया दीदी उत्साहवर्धक समीक्षा हेतु
      सादर

      Delete

तुम्हारी फुलिया

  " सां सों के चलने मात्र से झुलसता है क्या पीड़ा से हृदय?" फुलिया अपनी गाय गौरी का माथा सहलाते हुए पूछती है।   "तुम्ह...