Powered By Blogger

Thursday, 24 February 2022

बुलावा पत्र

   


        ”आँगन में बहू के पैर ही शुभ नहीं पड़े ! नहीं तो मेरा राजू क्या कम था पढ़ाई में?" हाथ में लिफ़ाफ़ा लिए नीना बेटे की नाकामयाबी को बहू की परछाई से ढकने का प्रयास करती है।

”मैं तो पहले दिन ही समझ गई थी, थालियों को क्या झट-पट उठा रही थी। अरे! थोड़ी शर्म लिहाज तो करती।” रोहिणी नीना के टूटे दिल की छेकड़ से झाँकते हुए उसे टटोलती है।

”ना री रोहिणी! ऐसे तो विश्वास न करूँ? यह  तो गुरुजी जी ने कहा है; बहू पर ग्रहों का दोष है अब देखो कब छटेंगे…? "

 बेचैनियों के साथ भावों के हिलोरों में बहती नीना। सारा दोषारोपण बहू के सर-माथे मढ़ देती है।

”क्या बहू ने कोई कांड किया? यों माथा पकड़ क्यों बैठी हो?”

चाय की चुस्कियों के साथ उत्सुकता का बिस्किट डूबोते हुए; रोहिणी नीना के ओर समीप खिसक जाती है।

”कल जा रही है  बाड़मेर, बुलावा पत्र आया है उसका।”

बहू के जाने से बेचैन नीना नासमझी की लपटों में झुलसती हुई रसोई की ओर जाती है।

”अच्छा, बताओ बहू कहा है? बड़े बुजुर्गो के आगे ढोक देना भी भूल गई क्या?”

रोहिणी चारपाई से उठती है, निगाहें कमरा तो कभी किचन की तरफ़ दौड़ाती है।

"बुआ जी आप तो मिठाई खाइए,  स्टेट बैंक में मेरा सिलेक्शन हुआ है, दो दिन बाद जॉइनिंग है।”

दीक्षा प्लेट में मिठाई लिए आती है।

”मैं कहूँ न, लाखों में एक है हमारी दीक्षा; तुम तो बौराय गई हो भाभी।”

झोंके-सी बदलती रोहिणी दीक्षा की बलाएँ लेते हुए अपने सीने से लगा लेती है।


@अनीता सैनी 'दीप्ति'

18 comments:

  1. थाली के बैंगनों की कमी नहीं ।

    आज भी किसी की गलती दूसरों के सिर मंढ दी जाती है ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सही कहा आदरणीय संगीता दी जी थाली के बैंगनों की कमी नहीं है।
      हृदय से आभार आपका।
      सादर

      Delete
  2. चलो रोहिणी जान गयी स्टेट बैंक की नौकरी और तनख्वाह ! भाभी को भी समझा ही लेगी। हाँ दोष तो बहू के सर ही मढ़ने हैं चाहे कमाऊ भी क्यों न हो...
    लाजवाब लघुकथा बहुत ही खूबसूरत तानाबाना।

    ReplyDelete
    Replies
    1. समाज की विडंबना है यह... हृदय से आभार आपका।
      सादर

      Delete
  3. स्त्री जीवन के संघर्ष को दर्शाती सराहनीय लघुकथा । बधाई अनीता जी।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय से आभार जिज्ञासा जी।
      सादर

      Delete
  4. Replies
    1. हृदय से आभार आदरणीय गगन शर्मा जी सर।
      सादर

      Delete
  5. एक सामाजिक विषमता की ओर बड़ी कुशलता से संकेत करती हुई लघुकथा विसंगतियों को दरकिनार कर युवा पीढ़ी के सकारात्मक दृष्टिकोण को दीक्षा के रूप प्रस्तुत करती है । बहुत सुंदर सृजन ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सारगर्भित प्रतिक्रिया हेतु हृदय से आभार आदरणीय मीना दी जी। आपकी प्रतिक्रिया संबल है मेरा।
      सादर स्नेह

      Delete
  6. बहुत सुंदर। बधाई।

    ReplyDelete
  7. नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा शनिवार (26-02-2022 ) को 'फूली सरसों खेत में, जीवित हुआ बसन्त' (चर्चा अंक 4353) पर भी होगी। आप भी सादर आमंत्रित है। 12:01 AM के बाद प्रस्तुति ब्लॉग 'चर्चामंच' पर उपलब्ध होगी।

    चर्चामंच पर आपकी रचना का लिंक विस्तारिक पाठक वर्ग तक पहुँचाने के उद्देश्य से सम्मिलित किया गया है ताकि साहित्य रसिक पाठकों को अनेक विकल्प मिल सकें तथा साहित्य-सृजन के विभिन्न आयामों से वे सूचित हो सकें।

    यदि हमारे द्वारा किए गए इस प्रयास से आपको कोई आपत्ति है तो कृपया संबंधित प्रस्तुति के अंक में अपनी टिप्पणी के ज़रिये या हमारे ब्लॉग पर प्रदर्शित संपर्क फ़ॉर्म के माध्यम से हमें सूचित कीजिएगा ताकि आपकी रचना का लिंक प्रस्तुति से विलोपित किया जा सके।

    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।

    #रवीन्द्र_सिंह_यादव

    ReplyDelete
    Replies
    1. मंच पर स्थान देने हेतु आभारी हूँ आदरणीय रविंद्र जी सर।
      सादर

      Delete
  8. मानसिक जड़ता का सटीक उद्घाटन। आधी आबादी को स्वयं ही इसे तोड़ना होगा।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय से आभार आदरणीय अमृता दी जी आपकी प्रतिक्रिया संबल है मेरा।
      स्नेह बनाए रखें।
      सादर स्नेह

      Delete
  9. गुड़कन लोटे पीठ पीछे कुछ और सामने कुछ और भुवाजी।
    अपने बेटे की नाकामयाबी का ठीकरा नई बहुत के पग फेरे की भेंट चढ़ा ,सच तो ये था कि बेटे से ज्यादा कामयाब बहु हजम नहीं हो रही ।
    गाहे बहागे ऐसे वाक़िए देखने मिलते हैं , सामाजिक धरातल पर सामायिक लघुकथा , सटीक सार्थक हृदय स्पर्शी।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय से आभार आदरणीय कुसुम दी जी सारगर्भित प्रतिक्रिया हेतु। आपकी प्रतिक्रिया संबल है मेरा।
      आशीर्वाद बनाए रखें।
      सादर

      Delete

भावों की तपिश

          ”हवा के अभाव में दम घुट रहा है, हमारा नहीं; पहाड़ों का। द्वेषी है! पेड़ों को पनपने नहीं देता!! " पहाड़ों पर भटके एक पंछी ने फो...