Powered By Blogger

Thursday, 28 January 2021

बुज़ुर्ग

            


            "अंक प्लीज़ साइड में ही रहें आप आपके कपडों से स्मैल आ रही।”

बीस-बाईस साल की युवती ने मुँह बनाते हुए नाक को सिकोड़ते हुए।

अभी-अभी मेट्रो में सवार हुए सत्तर-पचहत्तर साल के बुज़ुर्ग लुहार से कहती है।

उसके कपड़े मैले-कुचैले,चेहरे और हाथों पर धूप-मिट्टी ने मिलकर एक परत बनाई हुई थी परंतु बड़ी-बड़ी मूछों में ताव अभी भी था। उसके दोनों कंधों पर लोहे के कुछ बर्तन टंगे थे एक हाथ से मेट्रो में सपोर्ट को पकड़े हुए और दूसरे हाथ में भारी सामान थाम रखा था।जिसे न जाने क्यों वह नीचे नहीं टिकाना चाहता था। लड़की ने जैसे ही उससे कहा वह स्वयं को असहज महसूस करने लगा। चेहरे पर बेचैनी के भाव उभर आए। सहारे की तलाश में वह बुज़ुर्ग इधर-उधर आँखें घुमाने लगा। हर कोई उससे दूरी बनाना चाहता था।

”मैम प्लीज़ आप मेरी सीट पर...।”

पास ही की सीट पर बैठे एक हेंडस्म नौजवान ने हाथ का इशारा किया और लड़की को अपनी सीट दी,हल्की मुस्कान के साथ दोनों ने एक-दूसरे का स्वागत किया। लड़की अब सहज अवस्था में थी। सीट मिलते ही वह अपने आपको औरों की तुलना में बेहतर समझने लगी।

अभी भी बुज़ुर्ग असहज था। उसकी आँखों में बेचैनी, क़दम कुछ लड़खड़ाए हुए से...।

”प्लीज़ टेक सीट।”

तीन-चार सीट दूर बैठे एक विदेशी टूरिस्ट की आवाज़ थी।

 उसने उस बुज़ुर्ग का सामान थामते हुए उसे अपनी सीट पर बैठने का आग्रह  किया।

जिन यात्रियों की आँखें इस घटनाक्रम पर टिकी हुईं थीं एक पल के लिए उनकी पलकें लजा गईं।

@अनीता सैनी 'दीप्ति'

26 comments:

  1. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना शुक्रवार २९ जनवरी २०२१ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    सादर
    धन्यवाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया मंच पर लघुकथा साँझा करने हेतु।
      सादर

      Delete
  2. सादर नमस्कार,
    आपकी प्रविष्टि् की चर्चा शुक्रवार ( 29-01-2021) को
    "जन-जन के उन्नायक"(चर्चा अंक- 3961)
    पर होगी। आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    धन्यवाद.

    "मीना भारद्वाज"

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार मीना दी लघुकथा को मंच प्रदान करने हेतु।
      सादर

      Delete
  3. Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया सर।

      Delete
  4. सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  5. लजानी ही चाहिए । हम विदेशियों की नक़ल कर सकते हैं या उनका उपहास कर सकते हैं; उनसे कुछ सीखने की नहीं सोच सकते । बहुत अच्छी पोस्ट है यह आपकी अनीता जी ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार सर सही कहा मानवता की हत्या आम हो गई है। स्वयं सिद्धांता सर्व परी है आज के समय में।
      सादर

      Delete
  6. बहुत खूब ...हमें अपने भीतर देखने को व‍िवाश करती रचना...वाह अनीता जी

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया दी मेरे द्वारा कल्पना की क़लम से बाँधी लघुकथा तारीफ़ पर सवार हुई।
      सादर

      Delete
  7. सोचने को विवश करती सुंदर रचना, अनिता दी।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया दी

      Delete
  8. यथार्थ का चित्रण किया है आपने अनीता जी, कई बार ऐसे दृश्य दिख जाते हैं और हम उसे अनदेखा कर देते हैं..हमें अपने अंदर झांकने को विवश करती हुई रचना..

    ReplyDelete
    Replies
    1. सही कहा दी मैंने भी काफ़ी बार महसूस किया है।सोचा क्यों न कुछ लिखा जाए इस पर।
      सादर

      Delete
  9. खुशी हुई कि कुछ आंखों में इतनी भी लज्जा बची हुई है । वर्ना ... । प्रभावी अंदाज ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय दी यह लज्जा मेरी कल्पना की है यथार्थ में लोगो को कहाँ लज्जा आती है। मुर्दो पर पैर उठाकर चलने वाले लोग है।
      सादर

      Delete
  10. यथार्थ का चित्रण करती हुई अर्थपूर्ण रचना, दुःख होता है कि भारतीय समाज में श्रेणी भेद की खाई इतनी गहरी होती जा रही है, और लोग तेज़ी से संस्कार भी भूलते जा रहे हैं, उच्च शिक्षा लेने से क्या फ़ायदा अगर हम मानवीय मूल्यों को भूल जाएं और एक विदेशी हमें प्रेरणा दे - - यही विश्व गुरु होने के उदहारण हैं कदाचित - - नमन सह।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी प्रतिक्रिया हमेशा ही मेरा उत्साहवर्धन करती है सर।
      सही कहा सर भेद-भाव की खाई बहुत गहरी होती जा रही है।बस शालीनता को दिखावा जड़ा जाता है।एक कॉमन सी समस्या है जिसे शब्द देने का प्रयास था।
      सादर

      Delete
  11. Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया सर मनोबल बढ़ाने हेतु।
      सादर

      Delete
  12. कर्म से ज्यादा शक्ल सूरत की अहमियत हो गई है, जिस मिट्टी के अनाज को खाकर जिंदा रहते है,उसी से घृणा क्यों , सारे साधन यही मिट्टी जुटाती है , इसका मान, सम्मान करने की जगह इससे ऐसा बर्ताव , ये वही कर सकते है, मेहनत की कीमत को नही समझते है, वो विदेशी भी शर्मिंदा होगा हमारी ऐसी सोच पर, क्योंकि हम तो अपनी हरकतो पर शर्मिंदा होते नही , बहुत ही बढ़िया, समाज का आईना है, शुभप्रभात

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय ज्योति बहन आपकी प्रतिक्रिया अनमोल है। बहुत कुछ है जो घटित हो जाता है परंतु निग़ाह से वंचित रह जाती है।समाज का दोहरा रव्या बड़ा विचारणीय है।आज को देखते भविष्य की फ़िक़्र होती है कि कैसे समाज बच्चों को सौंप रहे है?
      सादर

      Delete
  13. बहुत ही सुंदर सृजन।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया सर।
      सादर

      Delete

गठजोड़

                  ”इसे संदूक के दाहिने तरफ़ ही रखना।” शकुंतला ताई अपनी छोटी बेटी बनारसी से कहतीं हैं। हल्का गुलाबी रंग का गठजोड़ जिसमें न ज...