Tuesday, 30 June 2020

पानी की किल्लत

 

 "प्रकृति का प्रकोप प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा है,भूकंप के हल्के झटकों के साथ-साथ मुआ पानी भी पाताल की गोद में जा बैठा है।"

छत की मुँडेर पर रखे खाली बर्तन के पास बैठी एक चिड़िया ने मायूसीभरे स्वर में कहा। 

"हर किसी की जड़ें पीपल और बरगद-सी गहरी तो नहीं हो सकती ना...जो पाताल से पानी खींच सके।"

दूसरी चिड़िया की आवाज़ में व्याकुलता थी उसने आसमान को एक टक देखा उम्मीद और आग्रह दोनों आँखों की पलकों में छिपाते हुए कहा। 

  "धीरे-धीरे अब शेखावाटी में खेजड़ी का वृक्ष भी सूखने लगा है। धरती की तलहटी को छूते पानी से हम ही नहीं किसान भी व्याकुल हैं।"

पहली चिड़िया ने छज्जे की छाँव का आसरा लिया और दूसरी को आने का इशारा किया। 

"शहर और गाँव में बावड़ीयाँ तो पहले ही सूख चुकीं हैं  अब कुओं का पानी भी सूखने लगा है।"

छत के उपर से गुज़रते हुए कौवे ने खिसियाते हुए कहा। 

  "जीवन चुनौतियों से भरी गठरी को लादे रखता है वह कभी ज़मीन पर पैर ही नहीं रखता।"

दूसरी चिड़िया ने एक नज़र कौवे पर डालते हुए कहा। 

"वहीं तपती रेत पर अब ऊँट के पाँव भी जलने लगे हैं, छाले उभर आए हैं पैरों में उसके,उसकी कूबड़ सिकुड़-सा गया है।"

दोनों चिड़ियों ने पास रखे गमले में पानी के लिए चोंच मारी पानी तो नहीं था परंतु मिट्टी गीली होने से वहीं बैठ गई। 

"गड़रिये के पास छाँव के नाम पर कोरा आसमान है कुछ बादल के टुकड़े हैं जो कभी-कभार ही उसके साथ चलते हैं।"

पहली चिड़िया ने मन हल्का करते हुए कहा। 

"पेड़-पौधे भी सूख चुके हैं। मरुस्थल पैर पसार रहा है। भेड़-बकरियाँ अब मिट्टी को  सूँघती नज़र आतीं हैं। हर किसी का जीवन ठहरा-सा लगता है। नहीं ठहर रहा तो धरती की गोद में पानी और हुकुम का कभी आठ तो कभी शाम चार बजे बातें बनाना।"

एक तीसरी चिड़िया गमले में अपनी जगह बनाने का प्रयास करते हुए कहती है। 

©अनीता सैनी 'दीप्ति'



10 comments:

  1. चिड़ियो के माध्यम से गरमी के प्रकोप को उकेरती हुई सुन्दर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार आदरणीय सर 🙏

      Delete
  2. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 2.7.2020 को चर्चा मंच पर चर्चा -3750 पर दिया जाएगा। आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ाएगी।
    धन्यवाद
    दिलबागसिंह विर्क

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया सर मंच पर स्थान देने हेतु .

      Delete
  3. चिड़ियों की प्यारी कहानी, चिड़ियों के माध्यम से गर्मी की तकलीफों को उजागर करती हुई पोस्ट ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार प्रिय ज्योति दीदी आपकी प्रतिक्रिया हमेशा मेरा मनोबल बढ़ाती है ब्लॉग पर आते रहे.हम बच्चों को कैसा भविष्य सौंप रहे है शायद हमें इसका अंदेशा भी नहीं है .आपको लघुकथा पसंद आई बहुत अच्छा लगा .

      Delete
  4. जल ही जीवन है, इसका सरंक्षण आज की सबसे बड़ी जरूरतों में से एक है

    ReplyDelete
    Replies
    1. सही कहा आदरणीय अनीता दीदी अब जल एक विकट समस्याओं में से एक है.हमें अमल अवश्य करना चाहिए .
      ब्लॉग पर आते रहे .
      सादर प्रणाम

      Delete
  5. "रहिमन पानी राखिए, बिन पानी सब सून।"
    पानी के महत्त्व को त्रासदी के रूप में चित्रित करते हुए व्यंग्यात्मक लहज़े की लघुकथा में प्रतीकों का बेहतरीन प्रयोग हुआ है। पानी की कमी अब एक भयावहता में तब्दील हो चुकी है जिसे समय की आहट तो चीख़कर हमें बता रही है किंतु मानव का इस मुद्दे पर लापरवाही से भरा रबैया अत्यंत चिंताजनक है।

    सुंदर उद्देश्यपूर्ण लघुकथा।

    ReplyDelete
    Replies
    1. पानी की महत्ता पर सारगर्भित प्रतिक्रिया मुद्दा है भी विचारणीय.संभल गए बहुत अच्छा सब ठीक वैसे भी है.
      लघुकथा का मर्म स्पष्ट करती सराहनीय समीक्षा हेतु सादर आभार .आशीर्वाद बनाए रखे .
      सादर प्रणाम .

      Delete

तुम्हें भुला नहीं पाई

          आज से लगभग दस वर्ष पूर्व मेरे पति की पोस्टिंग जयपुर कमांड हाउस में थी। हम सरकारी क्वाटर में रहते थे। उस वक़्त मेरी गुड़िया की उम्र ...